ALL delhi Business Ghaziabad Faridabad Noida STATE vichar
निरंकारी मिशन नहीं भूल सकदा: पंजाबी कविता
August 8, 2020 • Delhi Search

बारां जनवरी सन सतवंजा 
ब‌ई एक बच्ची दी आमद होई
मनमोहन सिंह ते अमृत कौर दे
वेहड़े विच खिलरी खुशबोई
गुरुमुख सिंह ते मदन माता दी 
गोदी दी सुणके अरजोई
फर्रुखाबाद धन-धन से करिया,
पावन करती धरत जा छोई
किन्ना सोहणा नाम सविंदर कृपा किती खुद निरंकार
निरंकारी मिशन नहीं भुल सकदा,उस मां दे लक्खां उपकार 

अठाईवां संत समागम सी 
हरदेव गुरु नाल लावां ल‌ईआं
चौदां नवंबर सन पझंतर 
गुरु परिवार च सांझां प‌ईआं
तकिया सी खुद उसे दौर विच
मिशन ने जो तकलीफां स‌ईआं
पति बाद विच सतगुरु पहलां 
मनीआं जो गुरुदेव ने कहीआं
एस तो सो‌‌हणा की हो सकदा जो उहना दा सी किरदार
निरंकारी मिशन नहीं भूल सकदा,उस मां दे लक्खां उपकार 

सातारां मई ते वीह सौ सोलां 
सतगुरु रूप ‌च किरपा कीती
मिशन दे ल‌ई समर्पित हो गए,
वक्त जाणदै घड़ी जो बीती
हरदेव गुरु दे सुपनिआ नूं ही 
पूरा करण दी धारी नीती
गुनाहगारां नूं बख्शण वाली 
खूब पुगाई उहनां रीती
लख वार डंडौत वंदना मां किडी वडी तूं बखशणहार
निरंकारी मिशन नहीं भूल सकदा,उस मां दे लक्खां उपकार 

सोलां जुलाई वीह सौ अठारां 
केहंदे हुण आराम है करना
सतगुरु रुप सुदीक्षा जी दीआं 
पैड़ां ते हुण पैर है धरना
भावें जो परिस्थितियां होवण 
खुशी खुशी भाणा है जरना
हाले कम्म बहुत है बाकी 
ना ही थकणा नां ही हरना
पं‌ज अगस्त वीह सौ अठारां पंज पंदरां हो ग‌ए निरंकार
निरंकारी मिशन नहीं भूल सकदा,उस मां दे लक्खां उपकार 

     पाली "गिद्दड़बाहा"
paligidderbaha@gmail.com
      +918437023910