ALL delhi Business Ghaziabad Faridabad Noida STATE vichar
एमसीडी चुनाव के मद्देनजर संगठन को मजबूत करने में जुटी 'आप'
August 9, 2020 • Delhi Search

नई दिल्ली, दिल्ली में 2022 में नगर निगम चुनाव होने हैं। ऐसे में आम आदमी पार्टी (आप) ने अभी से इसकी तैयारी शुरू कर दी है। पार्टी दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) के आगामी चुनावों के मद्देनजर संगठन को मजबूत करने में जुट गई है।

इसी के तहत रविवार को दिल्ली में पार्टी ने विभिन्न पदाधिकारियों की नियुक्ति की है। पार्टी मुख्यालय में प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए दिल्ली प्रदेश के संयोजक एवं श्रम मंत्री गोपाल राय ने बताया कि पिछले एक हफ्ते से दिल्ली में संगठन के पुनर्गठन की प्रक्रिया चल रहा थी।

विधानसभा चुनाव 2020 में जिन कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने बेहतर भूमिका निभाई और कोरोना संकट काल के समय जो लोग सक्रिय रहे, उनको आगामी निगम के चुनाव में जिम्मेदारियां देने पर विचार किया गया। राय ने बताया कि प्रथम चरण की इस प्रक्रिया के तहत आज हम जिला स्तर के पदाधिकारियों, लोकसभा स्तर के पदाधिकारियों, लोकसभा कम्युनिकेशन इंचार्ज और 70 विधानसभाओं में नियुक्त किए गए ऑब्जर्वर के नाम की घोषणा कर रहे हैं।

उन्होंने बताया कि दूसरे चरण में हम सभी विधानसभा के अध्यक्षों और संगठन मंत्रियों के नामों की घोषणा करेंगे और तीसरे चरण में सभी 272 वार्ड के अध्यक्षों एवं संगठन मंत्रियों के नाम की घोषणा की जाएगी।

प्रेस वार्ता में आप के एमसीडी प्रभारी दुर्गेश पाठक भी उपस्थित थे। उन्होंने उत्तरी दिल्ली नगर निगम (नार्थ एमसीडी) पर बच्चों की पढ़ाई के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाया। पाठक ने कहा कि नार्थ एमसीडी के स्कूलों में 3 लाख बच्चें पढ़ते हैं, जिनकी पढ़ाई अप्रैल में शुरू हो चुकी है।

अभी अगस्त चल रहा है लेकिन बच्चों को किताबें नहीं मिली हैं। ये बच्चों के भविष्य का सवाल है। यदि किताबें ही नहीं मिलेंगी तो बच्चें पढ़ेंगे कैसे? ये बेहद दुख की बात है। हम नगर निगम से विनती करते हैं कि जल्द से जल्द बच्चों को किताबें मुहैया कराई जाएं।

उप-मुख्यमंत्री को लिखा पत्र दुर्गेश पाठक ने बच्चों को किताबें उपलब्ध नहीं कराए जाने को लेकर उप-मुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया को पत्र लिखा है। इसमें पाठक ने कहा है कि दिल्ली में भाजपा शासित एमसीडी के पास दिल्ली की प्राथमिक शिक्षा की जिम्मेदारी है।

सभी स्कूलों में 2020-2021 का शैक्षणिक सत्र अप्रैल से शुरू हो गया है और उसी समय बच्चों को स्कूल की किताबें दे दी जानी चाहिए थी लेकिन उत्तरी दिल्ली नगर निगम के अंदर आज अगस्त महीना हो जाने तक उन्हें किताबें उपलब्ध नहीं कराई गई हैं। पाठक ने उप-मुख्यमंत्री से अनुरोध करते हुए कि जल्द से जल्द इस मामले को संज्ञान में लें और इन बच्चों के भविष्य के लिए मदद करें। उल्लेखनीय है कि 2017 में हुए दिल्ली नगर निगम के चुनाव में आम आदमी पार्टी को बीजेपी से करारी हार का सामना करना पड़ा था।