ALL delhi Business Ghaziabad Faridabad Noida STATE vichar
हौज काजी विवाद : डॉ. हर्षवर्धन ने किया धार्मिक स्थल का दौरा,क्या थी घटना
July 2, 2019 • Delhi Search

नई दिल्ली, 02 जुलाई पुरानी दिल्ली के हौज काजी इलाके में पार्किंग विवाद के बाद धार्मिक स्थल में तोड़फोड़ के मामले में दिल्ली पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है तथा एक नाबालिग को भी पकड़ा है। सूत्रों ने बताया कि पार्किंग विवाद से दो समुदायों के बीच उत्पन्न तनाव और एक धार्मिक स्थल में तोड़फोड़ के मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है जबकि एक नाबालिग को भी हिरासत में लिया गया है। पुलिस की ओर से हालांकि गिरफ्तारी की फिलहाल पुष्टि नहीं की गई है।
हौज काजी इलाके में रविवार रात में हुए विवाद के बाद सोमवार दिनभर तनाव की स्थिति रही। कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए आज भी बड़ी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया है। दोनों समुदाय के लोग सोमवार शाम को शांति बनाने के लिए सामने आए और उन्होंने लोगों को अमन बहाल करने की अपील की थी। फतेहपुरी मस्जिद के शाही इमाम मुफ्ती मोहम्मद मुकर्रम ने अपील की थी कि धर्मस्थल को जो नुकसान हुआ है, उसे मुसलमान ही ठीक कराएं।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री एवं चांदनी चौक से सांसद हर्षवर्धन ने मंगलवार सुबह तनावग्रस्त इलाके का दौरा करके स्थिति का जायजा लिया। डॉ. हर्षर्धन ने ट्वीट करके कहा, ''सुबह चांदनी चौक के लाल कुंआ स्थित प्राचीन दुर्गा मंदिर के दर्शन किए। मंदिर में हुई तोड़फोड़ से मन व्यथित हुआ है। मैंने स्थानीय लोगों से बात करके मामले की पूरी जानकारी ली और उन्हें आश्वस्त किया कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।''
उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा कि प्राचीन दुर्गा मंदिर में दर्शन के बाद स्थानीय प्रबुद्ध नागरिकों से मुलाकात करके हौज काजी थाने में पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक की तथा पूरे घटनाक्रम की विस्तृत जानकारी ली। क्षेत्र में कोई अन्य अप्रिय घटना नहीं घटे इसके लिए किए गए सुरक्षा बंदोबस्त की भी समीक्षा की।
केंद्रीय मंत्री के साथ दौरे पर साथ गए सेंट्रल दिल्ली के पुलिस उपायुक्त मंदीप सिंह रंधावा तथा अन्य पुलिसकर्मियों को उन्होंने मंदिर में तोड़फोड़ करने वाले असामाजिक तत्त्वों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। पुलिस ने आश्वस्त किया है कि दोषियों को जल्द ही पकड़ लिया जाएगा। डॉ. हर्षवर्धन ने सभी से धैर्य एवं शांति बनाये रखने की अपील की है
क्या थी घटना : विवादास्पद घटना रविवार-सोमवार की दर यानी रात को पुरानी दिल्ली के लालकुंआ स्थित हमदर्द दवाखाने के पास गली चाबुक वाली में हुई। कारोबारी युवक आस मोहम्मद (32) अपने परिवार के साथ यहां रहते हैं। इसी गली में संजीव गुप्ता (28) नामक युवक अपने परिवार के साथ रहते है। उसकी गोलगप्पे और चाट की दुकान है। रविवार रात करीब 10 बजे आस मोहम्मद अपनी स्कूटी लेकर गली में पहुंचा। आस मोहम्मद अपनी स्कूटी को संजीव की दुकान के सामने पार्क करने लगा। संजीव के विरोध करने पर आस मोहम्मद वहीं स्कूटी पार्क करने की जिद पर अड़ गया।
दोनों के बीच कहासुनी के दौरान दोनों ओर से तीन-चार युवक वहां पहुंच गए। इनके बीच मारपीट भी हो गई। पीसीआर कॉल हुई। मौके पर पहुंची पुलिस संजीव व आस मोहम्मद को मेडिकल कराने के लिए थाने ले गई। इस बीच किसी ने व्हाट्सऐप व फेसबुक पर अफवाह फैला दी कि एक समुदाय के युवक को मॉब लिंचिंग का शिकार बनाया गया है। अफवाह फैलते ही एक समुदाय विशेष को लोगों की भारी भीड़ थाने पहुंच गई। थाने के बाहर नारेबाजी शुरू हो गई। रात करीब 12.30 बजे एक समुदाय के कुछ शरारती तत्वों ने पास के एक धार्मिक स्थल पर पथराव कर दिया। वहां धार्मिक स्थल के शीशे टूटने के अलावा कुछ मूर्तियां भी खंडित हो गई। इसकी सूचना मिलते ही दोनों समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए।