ALL delhi Business Ghaziabad Faridabad Noida STATE vichar
संत निरंकारी मिशन द्वारा मानव एकता दिवस 24 अप्रैल को आयोजित किये जायेंगे 81 रक्तदान शिविर
April 23, 2019 • Delhi Search

नई दिल्ली, सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज के पावन आशीर्वाद से संत निरंकारी मिशन की देशभर में सभी 3000 के लगभग शाखाएं 24 अप्रैल 2019 को मानव एकता दिवस समागम के उपलक्ष्य में विशेष सत्संग कार्यक्रम आयोजित करेंगी जहां बाबा गुरबचन सिंह जी तथा सैकड़ों ऐसे श्रद्धालु भक्तों को श्रद्धांजलि अर्पित की जायेगी जिन्होंने सत्य, प्रेम, शांति तथा मानव एकता के लिए अपने प्राणों की आहुति दी। इसी दिन देश में विभिन्न स्थानों पर 81 रक्तदान शिविरों का भी आयोजन किया जायेगा। दिल्ली में होने वाले मुख्य शिविर का उद्घाटन स्वयं सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज करेंगे। दिल्ली के अलावा महाराष्ट्र में 14, उत्तर प्रदेश में 11, पंजाब, राजस्थान व मध्य प्रदेश में 6-6, हरियाणा में 5, हिमाचल प्रदेश, बिहार व गुजरात में 4-4, उत्तराखंड, झारखंड एवं पश्चिम बंगाल में 3-3, जम्मू-कश्मीर एवम् उडीशा में 2-2 तथा चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, असम, गोवा, कर्नाटका, केरल, तमिलनाडु एवं आंध्र प्रदेश में 1-1 रक्तदान शिविर लगाया जायेगा। मिशन के द्वारा प्रथम रक्तदान शिविर का आयोजन दिल्ली में वर्ष 1986 के नवम्बर माह में वार्षिक निरंकारी संत समागम के अवसर पर किया गया। सद्गुरु बाबा हरदेव सिंह जी महाराज ने स्वयं रक्तदान करके इस शिविर का उद्घाटन किया और कहा कि 'रक्त नालियों में नहीं नाड़ियों में बहना चाहिएवर्ष 1987 से यह शिविर 24 अप्रैल को मानव एकता दिवस समागम के उपलक्ष्य में आयोजित किये जाने लगे। बाबा जी के शब्दों से प्रेरित होकर रक्तदान को अपनी भक्ति का ही अंग बनाकर श्रद्धालु भक्त इस महान अभियान में योगदान देने के लिए बड़ी संख्या में आगे आने लगे और इंडियन रेड क्रॉस सोसाईटी तथा सरकारी अस्पतालों इत्यादि ने भी भरपूर योगदान दिया। इन शिविरों में भक्तों के इस उत्साह को देखते हुये इंडियन रेड क्रॉस सोसायटी ने 1997 में बाबा हरदेव सिंह जी महाराज से आग्रह किया कि रक्तदान शिविरों का आयोजन माह सितम्बर के अंत तक बढ़ा दिया जाये क्योंकि इन महीनों में गर्मी के कारण देश की लगभग सभी ब्लड बैंकों में रक्त की कमी हो जाती है। बाबा जी ने इस प्रस्ताव को स्वीकर किया और मिशन के द्वारा 24 अप्रैल, 1997 से आरम्भ होकर यह रक्तदान शिविर सितम्बर के अंत तक आयोजित किये जाने लगे। वर्ष 2003 से यह शिविर 24 अप्रैल से आरम्भ होकर वर्ष भर आयोजित किये जा रहे हैं।