ALL delhi Business Ghaziabad Faridabad Noida STATE vichar
संजीव कृष्ण ठाकुर जी के अनमोल वचन
June 7, 2019 • Delhi Search

किसी से बदला लेने का नहीं अपितु स्वयं को बदल डालने का विचार ज्यादा श्रेष्ठ है। महतवपूर्ण यह नहीं कि दूसरे आपको गलत कहते हैं अपितु यह कि आप स्वयं गलत नहीं करते हैं।
बदले की आग दूसरों को कम स्वयं को ज्यादा जलती है। बदले की आग उस मशाल की तरह है, जिसे दूसरों को जलाने से पहले स्वयं को जलना पड़ता है। इसलिए सहनशीलता और समत्व के शीतल जल से जितनी जल्दी हो सके इस आग को रोकना ही वुद्धिमत्ता है।
बदले की भावना आपके समय को ही नष्ट नहीं करती अपितु आपके स्वास्थ्य तक को नष्ट कर जाती है। दुनिया को बदल पाना बड़ा मुश्किल है इसलिए स्वयं को बदलने में ऊर्जा लगाना ही सुखी होने का और सफल होने का एक मात्र उपाय है।

संजीव कृष्ण ठाकुर जी