ALL delhi Business Ghaziabad Faridabad Noida STATE vichar
राहुकेतु का गोचर क्या बदलाव लाएगा आपके जीवन में;आचार्य शालिनी मल्होत्रा
March 7, 2019 • Delhi Search

7 मार्च 2019 को राहु मिथुन राशि में रात्रि 02:48 बजे गोचर करेगा और फिर 23 सितंबर 2020 को सुबह 05:28 बजे यह मिथुन से वृषभ राशि में जाएगा। ज्योतिषीय दृष्टिकोण से राहु का गोचर बहुत ही अहम माना जाता है

आप खुद भी देख सकते हैं
=====================

जन्‍म राशि से राहु का गोचर यदि 1,3,6 9,10,11 स्थान पर है तो विवाह कराता है पुत्र प्राप्ति होती है धन लाभ होता है
यदि गोचर 2,4,5,7,8 और 12 भाव में हो कष्ट धन हानि मानसिक परेशानी देता है।

केतू जन्‍म राशि से गोचरवश जब 1,2,3,4,7,9,11 स्थान पर आता है तो शुभ फल देता है 5 6,8,10,12 स्थान पर ये गोचर अशुभ फल देने वाला होता है.।

ये उपाय सबके लिए लाभदायक होंगे
===========================

ॐ गं गणपतये नमः”, “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय”, “ॐ रां राहवे नमः”, “ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः”, “अर्धकायं महावीर्यं चंद्रादित्य विमर्दनम्। सिंहिका गर्भसंभूतं तं राहुं प्राणमाम्यहम्।।”, हनुमान चालीसा, सुंदर कांड इत्यादि का पाठ, माता सरस्वती की उपासना, श्री बटुक भैरव मंत्र का जप, रुद्राष्टाध्यायी और नवनाग स्तोत्र का पाठ करना चाहिए।

प्रत्येक माह की संक्रांति के दिन गंगाजल में गौमूत्र मिलाकर घर के सभी कमरों में छिड़काव करें।

दान करें उड़द दाल, काले तिल, नीले कपडे, गरम कम्बल सफाई कर्मचारी अथवा नीची जाती को, चीटी को शुगर खिलाए।
कोढ़ी, रोगी और अपंग को खाना खिलाएं।

मेष

राहु आपकी राशि से तीसरे भाव में गोचर करेगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली में तीसरा भाव पराक्रम के साथ-साथ सहजता का भाव होता है। राहु के तीसरे भाव में स्थिति आपके लिए शुभ संकेत की ओर इशारा कर रही है इसलिए गोचर की अवधि में आपको नौकरी में सफलता मिलेगी। छोटे बहन भाइयों से मनमुटाव हो सकता है या उनकी सेहत को कोई ना कोई परेशानी सकती है।यदि आप जॉब में परिवर्तन करना चाहते हैं तो आपकी यह मुराद भी पूर्ण होगी। इस गोचर की अवधि में आपको आर्थिक लाभ मिलने की प्रबल संभावना है। करियर में प्रमोशन के योग बन रहे हैं। इसके साथ-साथ आप विदेश यात्रा की योजना भी बना सकते हैं।

उपायः बुधवार की शाम को तिल के लड्डू का दान करें।

वृषभ

राहु आपकी राशि से दूसरे भाव में गोचर करेगा। कुंडली में दूसरा भाव जीवन में धन की विवेचना करता है। इस भाव में राहु का स्थित होना आपके लिए कष्टकारी हो सकता है। इस दौरान आर्थिक क्षेत्र में आपको संभलकर क़दम बढ़ाने होंगे। क्योंकि इसमें धन हानि हो सकती है। कड़वे शब्दों का प्रयोग या फिर बढ़ाचढ़ाकर बातचीत करना आपके लिए उचित नहीं होगा। किसी ग़लतफ़हमी के कारण घर का माहौल बिगड़ सकता है।ऐसा भी हो सकता है आपको कुटुंब से दूर रहना पड़े। धन संबंधी मामले सुलझेगे। धन आने के योग बनेंगे। पेट से संबंधित परेशानियां बढ़ सकती हैं क्योंकि केतु का भ्रमण आठवें घर में होगा। वाहन भी ध्यान से चलाएं। इस दौरान धैर्य का परिचय दें और क्रोध पर नियंत्रण करें। इसके अलावा इस अवधि में लोन लेने से बचें और न ही किसी को उधार दें।

उपायः भैरव देव के मंदिर में काले रंग का ध्वज चढ़ाएं।

मिथुन
राहु आपकी राशि में प्रवेश करेगा और यह आपके लग्न भाव में स्थित होगा। ज्योतिष के अनुसार लग्न भाव हमारे जन्म का भाव होता है। इस भाव में राहु का स्थित होना आपके लिए अनुकूल नहीं है। इस अवधि में आपको संभलकर चलना होगा। सेहत की दृष्टिकोण से आप थोड़े सजग रहें क्योंकि इस दौरान आपकी सेहत कमज़ोर रह सकती है। बहुत सारे कार्य बनने लगेंगे जो अभी तक रुके हुए थे। परंतु शादीशुदा जिंदगी को कहीं ना कहीं दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा क्योंकि सातवें में केतु पति पत्नी में मनमुटाव पैदा करेगा। क्योंकि आने वाले समय में बृहस्पति और केतु की युति बनेंगी कोई पुरानी बीमारी पुनः जन्म ले सकती है। ज़रुरत पड़ने पर चिकित्सक की सलाह अवश्य लें और किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरतें। राहु का गोचर बौद्धिक रूप से आपके लिए उत्तम रहेगा। छात्रों को पढ़ाई में दिक्कत का सामना करना पड़ेगा।

उपायः 8 मुखी रुद्राक्ष गले में पहने।

कर्क
राहु आपकी राशि से बारहवें भाव में संचरण करेगा। कुंडली में यह भाव व्यय का होता है इसलिए राहु के इस भाव में होने से आपके ख़र्चों में अधिक वृद्धि होगी। इस अवधि में आपके बेवजह के ख़र्चों की संख्या बढ़ जाएगा। हालाँकि गोचर के दौरान आप किसी विदेश यात्रा पर जा सकते हैं। राहु के प्रभाव से आपके पारिवारिक जीवन में उतार-चढ़ाव भरा समय आएगा। घर में बच्चों की सेहत में कमी देखी जा सकती है इसलिए उनकी सेहत पर अवश्य ध्यान दें। शादीशुदा जिंदगी मैं आ रही परेशानियों में भी कुछ समय के बाद राहत मिलनी शुरू हो जाएगी क्योंकि शनि और केतु का क्रॉस है इसलिए। कुछ समय के लिए अधिक ध्यान रखना चाहिए वहां पर भी कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता हैइसके अलावा उनके स्वभाव में भी परिवर्तन देखा जा सकता है। ऐसे में घबराएं नहीं और अपना काम ठीक ढंग से समय पर करें। वहीं चुनौतियों का हिम्मत से सामना करें। आपको मानसिक तनाव भी रह सकता है।

उपायः दुर्गा माँ की आराधना & भैरव देव की आराधान करें।

सिंह
राहु आपकी राशि से ग्यारहवें भाव में जाएगा। कुंडली में यह भाव इनकम और लाभ का भाव होता है। इस भाव में राहु की स्थिति आपके लिए सुखद परिणाम कारक रहेगी। आपके जीवन में ख़ुशियाँ आएंगी। करियर में न केवल ग्रोथ बल्कि सुनहरे अवसर भी प्राप्त होंगे। इस दौरान आपको किसी प्रकार की उपलब्धि हासिल हो सकती है। कार्य में सफलता मिलेगी और विभिन्न क्षेत्रों से आपको लाभ प्राप्त होने की संभावना है। बच्चों को लेकर आप थोड़े परेशान रह सकते हैं। उनके स्वभाव में बदलाव आ सकता है। विद्यार्थियों को अपनी विद्या की तरफ अति ध्यान देना चाहिए क्योंकि पंचम भाव में केतु का भ्रमण होगा।
प्रेमी प्रेमिका की तरफ से भी किसी ना किसी तरह की और असंतुष्टि बनी रहेगी।सामाजिक क्षेत्र में आपका रुतबा और मान-सम्मान बढ़ेगा, परंतु अपने सीनियर्स से थोड़ा सावधान रहें, कोशिश करें आपका रिश्ता उनके साथ बेहतर बना रहेगा। उनके निर्देशों का ठीक तरह से पालन करें।

उपायः कुत्तों को खाना खिलाएं। काला सफेद रंग का कम्बल दान करें

कन्या
राहु आपकी राशि से दसवें भाव में गोचर करेगा। कुंडली में यह भाव कर्म एवं पद-प्रतिष्ठा का भाव होता है। इस भाव में राहु का स्थित होना आपके लिए शुभ संकेत नहीं है। हालाँकि आर्थिक क्षेत्र में आपको इस गोचर का फायदा होगा। आपके धन की बचत होगी और विविध स्रोतों से आपके पास धन आएगा। अपने लक्ष्य को जल्दी हासिल करने के लिए आप शोर्ट कट का पैंतरा आज़मा सकते हैं। काम के संबंधित नए-नए रास्ते खुलेंगे ।तबादले होने के योग बनेंगे खासकर जिनकी राहु की या चंद्र की दशा अंतर्दशा चल रही हो।
प्रोफेशन में कुछ बदलाव होंगे जो आगे चलकर फायदेमंद साबित होंगे।शोर्ट का रास्ता भले ही आपको क्षणिक लाभ पहुँचा सकता है, परंतु दीर्घ अवधि के लिए यह आपके लिए ठीक नहीं होगा। राहु के प्रभाव से माताजी की सेहत में कमी आ सकती है इसलिए उनके स्वास्थ्य का विशेष ख़्याल रखें। ।

उपायः श्री राम रक्षा स्तोत्र का जाप करें।

तुला
राहु आपकी राशि से नौवें भाव में गोचर करेगा। कुंडली में नौवां भाव भाग्य और धर्म के बारे में बताता है। इस भाव में राहु की स्थिति आपके लिए अनुकूल नहीं है। इस दौरान आपके भाग्य का सितारा नहीं चमकेगा और इस कारण आपको आशानुरूप परिणाम नहीं मिल पाएंगे। इस दौरान आपको आर्थिक क्षेत्र में नुकसान हो सकता है। जो लोग यात्रा की प्लानिंग कर रहे हैं यह फॉरेन सेटल होने की सोच रहे हैं और कुंडली में योग हैं वह इस समय प्लानिंग कर सकते हैं
यात्रा के योग रहेंगे।
छोटे बहन भाइयों से मनमुटाव हो सकता है।धन की लेनदेन में बड़ी सावधानी बरतें अन्यथा आपको धन की हानि हो सकती है। इस अवधि में तीर्थ यात्रा पर जाने के योग बन रहे हैं और वहां आप किसी पवित्र नदी में डुबकी लगा सकते हैं। गोचर के दौरान आप किसी लंबी दूरी की यात्रा पर जा सकते हैं।

उपायः इस मंत्र का जाप करें: ॐ दुं दुर्गाय नमः ! चंदन की लकड़ी अपने पास रख

वृश्चिक

राहु आपकी राशि से आठवें भाव में प्रवेश करेगा। कुंडली में आठवां भाव आयु का भाव होता है। राहु के इस भाव में उपस्थिति आपके लिए अनुकूल नहीं है। वाहन चलाते समय ट्रैफिक नियमों का ध्यान रखें अथवा तेज़ गति या फिर नशे आदि वाहन न चलाएं, अन्यथा किसी दर्घटना के कारण चोट लग सकती है। गोचर के दौरान अपनी सेहत का ख़्याल रखें। इस दौरान आपकी आय में कमी देखी जा सकती है। राहु का गोचर आपके आर्थिक क्षेत्र को भी प्रभावित करेगा। इस दौरान आपकी आय में कमी और ख़र्च में वृद्धि होने हो सकती है।धन से संबंधित दिक्कत हो सकती है। खर्च बढ़ सकते हैं
राहु अष्टम में होने से
छोटी मोटी इंटरनल प्रॉब्लम, इंफेक्शन हो सकती है, सोच-समझकर धन ख़र्च करें। इस तनाव को अपने ऊपर हावी न होने दें, क्योंकि इसका असर आपके स्वास्थ्य पर भी पड़ेगा। दोस्तों में भी आपका विरोध हो सकता है।

उपायः शनिवार को दोपहर 12 बजे से पहले नीले वस्त्र दान करें।

धनु
राहु आपकी राशि से सातवें भाव में संचरण करेगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली में सातवां भाव वैवाहिक जीवन की विवेचना करता है। राहु का इस भाव में होना आपके लिए अच्छे संकेत नहीं है। वैवाहिक जीवन में जीवनसाथी के साथ रिश्तों में खटास आने की संभावना है।शादीशुदा जिंदगी में भी कुछ दिक्कत हो सकती है ।अगर विवाहित नहीं है तो विवाह होने के योग बन सकते हैं।। इस परिस्थिति से बचने के लिए लाइफ़ पार्टनर पर किसी भी तरह का दबाव न बनाएं और उनकी भावनाओं को समझने का प्रयास करें। जीवनसाथी पर शक न करें बल्कि उनपर विश्वास करें। उधर, काम-धंधे राहु का प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

उपायः राहु-केतु की शांति के लिए अनुष्ठान करें।

मकर
राहु आपकी राशि से छठे भाव में गोचर करेगा। कुंडली में छठा भाव रोग, भय और क्षति का होता है। राहु के इस भाव में होना आपके लिए अच्छा है। इस दौरान आपको शुभ परिणामों की प्राप्ति होगी। जीवन में ख़ुशियों का आगमन होगा। करियर में आपको सफलता मिलेगी। नौकरी में प्रमोशन और आय में बढ़ोत्तरी की प्रबल संभावना है। अपने विरोधियों पर आप भारी रहेंगे। छात्रों के लिए यह समय अनुकूल रहेगा। यदि आप किेसी प्रतियोगी परीक्षाओं में भी आपको सफलता मिलने की प्रबल संभावना रहेगी। यदि आपने बैंक में लोन के लिए आवेदन किया है तो आपका लोन पास हो जाएगा। सेहत संबंधित परेशानियां भी झेलनी पड़ सकते हैं। कोर्ट कचहरी के मामलों में भी उलझ सकते हैं ।

उपायः भैरो मंदिर में नारियल चढ़ाएं

कुंभ
राहु आपकी राशि से पाँचवे भाव में जाएगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली में पाँचवा भाव बुद्धि, विद्या एवं संतान को दर्शाता है। राहु ग्रह के इस भाव में उपस्थिति आपके लिए ज्यादा अनुकूल नहीं है। इस दौरान आपको आर्थिक क्षेत्र में आपको नुकसान हो सकता है। पैसों लेनदेन अथवा निवेश बहुत सोच-समझकर करें अन्यथा आपको धन हानि हो सकती है। प्रेम जीवन में प्रियतम के साथ विवाद हो सकता है। इस परिस्थिति से बचने के लिए लव पार्टनर की भावनाओं को समझें और उन्हें उनके हिस्से का पूरा समय दें। विद्या संबंधित अड़चने आ। सकती हैं। जो लेडीस प्रेग्नेंट है उन्हें अपनी प्रेगनेंसी का खास ध्यान रखना चाहिए। बहुत सारी परेशानियों से राहत मिलेगी राहु के छठे के निकलने से
लाभ और लग्नेश के आगे केतु आने से कुछ धन संबंधी मामलों में रुकावट आ सकती है।

उपायः सप्त धान्य (सात प्रकार के अनाज) को चिड़ियों को खिलाएं।

मीन

राहु आपकी राशि से चौथे भाव में संचरण करेगा। कुंडली में चौथा भाव माता, सुख, वृद्धि और बंधु के संबंध को बताता है। राहु के इस भाव में होना आपके लिए कष्टकारी हो सकता है। पारिवारिक जीवन में राहु का प्रभाव आपकी माताजी के स्वास्थ्य को कमज़ोर कर सकता है। इस दौरान आपको उनकी सेहत का विशेष ख़्याल करना होगा। कार्यक्षेत्र में आपको काम का बोझ रहेगा। काम की व्यस्तता के कारण आपको निजी जीवन के लिए थोड़ा कम समय मिलेगा। अनेक चुनौतियों और परेशानियों के कारण आपको मानसिक तनाव भी रह सकता है। आमदनी की अपेक्षा ख़र्चा अधिक रहेगा। धन का प्रयोग सोच-समझकर करें।जो लोग फॉरेन सेटल होने की सोच रहे हैं फॉरेन जाने के योग बनेंगे। जो लोग घर या वाहन में बदलाव करना चाहते हैं उसका बदलाव हो सकता है। वाहन ध्यान से चलाएं ।

उपायः शनिवार के दिन ज़रुरतमंद लोगों को कंबल दान करें।