ALL delhi Business Ghaziabad Faridabad Noida STATE vichar
भारतीय ब्राह्मण चेरिटेबल ट्रस्ट एवं भगवान परशुराम इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी द्वारा होली मंगल मिलन
March 30, 2019 • Delhi Search

रोहिणी। भारतीय ब्राह्मण चेरिटेबल ट्रस्ट एवं भगवान परशुराम इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी द्वारा रविवार 24 मार्च 2019 को प्रातः पी.एस.पी.-4, रोहिणी सैक्टर- 17 दिल्ली में होली मंगल मिलन-2019 एवं नवसंवत-2076 का अभिनन्दन समारोह इंस्टिट्यूट के प्रांगण में बड़ी धूम- धाम से मनाया गया। इस आयोजन में कमल चरण ग्रुप एवं साथी कलाकारों तथा कॉलेज के छात्र- छात्राओं द्वारा रंगारंग कार्यक्रम पेश किए गए तथा कॉलेज के छात्र-छात्राओं को पुरस्कार भी वितरित किए गए। कार्यक्रम के बाद प्रीतिभोज की व्यवस्था बहुत ही अच्छी थी। इस मौके पर संस्था के अध्यक्ष पंडित आत्म प्रकाश कौशिक ने कहा कि हमारा ब्राह्मण समाज शुरू से ही लोगों को ज्ञान बांटने का कार्य करता रहा है और यही कारण है कि आज भगवान परशुराम इस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से शिक्षा पाए छात्र-छात्राएं कई बड़ी कंपनियों में अच्छी सैलरी के पैकेज के साथ काम रहे हैं। इसी प्रकार संस्था के महासचिव विनोद वत्स ने अपने संबोधन में कहा कि होली का पर्व भाइचारे और मेलमिलाप का प्रतीक है। हम हर वर्ष इस त्यौहार को इसलिए मनाते हैं कि ताकि हमारी इंस्टिट्यूट के छात्र-छात्राएं अपनी शैक्षिक तालीम के साथ-साथ अपनी संस्कृति और पर्वो के महत्व से जुड़े रहे। इस मौके पर उन्होंने बाह्मण समाज के कई प्रमुख लोगों को प्रधान श्री आत्म प्रकाश कौशिक के साथ मिलकर संस्था के प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित भी किया। | इस मौके पर संस्था के सरंक्षक पं. भूरे लाल शर्मा, पं. जय प्रकाश गौड़, पं. नरेन्द्र शर्मा के अतिरिक्त, पं. सुरेन्द्र शर्मा (हास्य कवि) उपाध्यक्ष, पं. जय किशन कौशिक शर्मा (उपाध्यक्ष) पं. अरंविद शर्मा (उपाध्यक्ष), पं. परमानंद भारद्वाज (विधि सलाहकार) की गरिमामयी उपस्थिति के साथ कार्य समिति के सभी सदस्य मौजूद थे। इस कार्यक्रम को सफल बनाने का श्रेय भी संस्था के पं. आत्म प्रकाश कौशिक (अध्यक्ष), पं. विनोद वत्स (महामंत्री), पं. जगदीश प्रसाद शर्मा (कोषाध्यक्ष), पं. वी.एस. शर्मा (मंत्री), पं. राम बाबू शर्मा (मंत्री), पं. महेश चंद्र शर्मा (पूर्व महापौर), परामर्श निर्देशक डॉ. ए.के. टंडन, प्रिसिंपल डॉ. पायल पाहवा, कार्यकारी निर्देशक डॉ. नाईडी गौड़, डॉ. सी.आर.जग्गा, डॉ. अभिजीत नायक, डॉ. एस.डी. चौहान को जाता है।